page contents Farsi vyapari

Farsi vyapari

25.00

एक बार बादशाह अकबर अपने दरबार में बैठे हुए थे।

तभी उनके पास उनके मंत्री मानसिंह जी आते हैं और कहते हैं कि ईरान से एक व्यापारी आयें है।

और वे आपसे मिलना चाहते हैं. उन्हें एक शिकायत हैं।

बादशाह ने कहा की ठीक है उन्हें बुलाया जाए।

Category: Tag:

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Farsi vyapari”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
Share